5 Nov 2010

  मर गई राजू की बीबी; बहुत महंगा है ईलाज



आओ बातें करें: बहुत महंगा है ईलाज: "नियति के इस काल चक्र से कोई नही बच पाता है पर क्या शाम होने के पहले सुरज कहीं ढल जाता है। सुरज ढल गया, मैं देखता रहा , रोता रहा पर कुछ न ..."
Share this article on :

4 टिप्पणियाँ:

Surendra Singh Bhamboo said...

ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

मालीगांव
साया
लक्ष्य

हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

संगीता पुरी said...

इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

Nirankush Aawaz said...

लेखन अपने आपमें रचनाधर्मिता का परिचायक है. लिखना जारी रखें, बेशक कोई समर्थन करे या नहीं!
बिना आलोचना के भी लिखने का मजा नहीं!

यदि समय हो तो आप निम्न ब्लॉग पर लीक से हटकर एक लेख
"आपने पुलिस के लिए क्या किया है?"
पढ़ सकते है.

http://baasvoice.blogspot.com/
Thanks.

मदन कुमार ति्वारी said...

आप सबका धन्यवाद । आपने समय निकालकर ब्लाग देखा । आपकी आलोचना , सुझाव और पोस्टिंग का स्वागत है। आप स्वंय अपने साथ या समाज में घटी घटनाओं को मेरे ब्लाग पर पोस्ट कर सकते है।

 
© Copyright 2010-2011 आओ बातें करें All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Biharmedia.com | Powered by Sakshatkartv.com.