29 Nov 2010

मुन्ना बदनाम हुआ तेरे लिये

video

तुने काजल लगाया दिन में रात हो गई

रतन टटा और मुकेश अंबानी बीच में हिलेरी क्लिंगटन
छुप गये सारे नजारे वोय क्या बात हो गई , तुने काजल लगाया दिन में रात हो गई । रतन टाटा जी किसी की निजता में हस्तक्षेप निश्चित हीं गलत है। लेकिन जब निजता राष्ट्र के हितो को क्षति पहुंचाये तो क्या करे ? राष्ट्रहित देखें या निजता की रक्षा करें। निरा से संबंध को आप भी स्विकार कर ते हैं। अब आप यह बतायें लाबिंग का मतलब क्या होता है ? Act of attempting to convince public officials to favour a certain cause or take a certain action. Is it morally or ethically right?  एक तरफ़ आप कहते हैं की आपने कभी भी निरा से सरकारी अधिकारियों को पैसे देने या उनका फ़ेवर पाने के लिये नही कहा । न हीं आपने राडिया के द्वारा पोलिसी मैटर में कोई बदलाव लाने के लिये प्रयास किया । लेकिन रतन जी मैं आपकी सब बात मान लेता हूं , आप सिर्फ़ यह बता दें की निरा राडीया को किस काम की जिम्मेवारी आपने दी थी । रह गई न्यायालय की बात तो भगवान भला करे इस मुल्क का । गैस विवाद में मुकेश के पक्ष में सरकार का खडे हो जाना और मुकेश के पक्ष में आया सर्वोच्य न्यायालय का फ़ैसला मेरे गले नही उतरता है । बालाकर्‍ष्णन का सेवा नि्वर्‍ति के तत्क्षण मानव अधिकार आयोग का अधय्क्ष बनाना भी मेरे जैसे व्यक्ति को सार्वजनिक जिवन में  नैतिकता की सीमा रेखा का उल्लंघन लगता है। बाकी बातें बाद में।
27 Nov 2010

मतपत्र की वापसी हो

२००९ अक्टूबर के बाद हुये विधानसभा चुनाव के नतीजे शक के दायरे में है। मैं अपने पहले ब्लाग में लिख चुका हूं की ई वी एम में छेडछाड आसान है। ई  वी एम के साथ सबसे बडी खराबी है कि मत चोरी किये जाने की स्थिति में चोरी का पता लगाना मुश्किल है जबकी मतपत्रों के चोरी होने यानी एक उम्मीदवार का मत दुसरे के खाते में चले जाने पर मतपत्रों को पुन: निकाल कर उनके उपर मारे गये मोहर को देखकर चोरी पकडी जा सकती है  ।  इस से संबंधित शोधकार्य से जुडे हरि के प्रसाद ने यह स्विकार किया है कि अक्टूबर २००९ में एक क्षेत्रीय दल के नेता ने उनसे संपर्क करके चुनाव को प्रभावित करने का अनुरोध किया था। अब यह सरकार और चुनाव आयोग की जिम्मेवारी बनती है की पता लगाये उस नेता का और राजनितिक दल का। २००९ अक्टूबर के बाद दो राज्यों के चुनाव नतीजे सर्वाधिक चौकाने वाले हैं । एक राज्य है, उडीसा और दुसरा बिहार । दोनो राज्यों में सतारुढ दल की वापसी हुई है। चुनाव नतीजे को प्रभावित तभी किया जा सकता है , जब ई वी एम तक पहूंच हो। और ई वी एम तक पहुंच सिर्फ़ सतासीन दल की हीं होती है। देखना है कि सरकार और चुनाव आयोग जांच करते हैं या नही।

आओ बातें करें: Fraud in EVM is possible.

आओ बातें करें: Fraud in EVM is possible.: " हरि के प्रसाद J . Alex Halderman, Hari K prasad and Rop Gonggrijp ..."

Fraud in EVM is possible.

 हरि के प्रसाद
  J . Alex Halderman, Hari K prasad and Rop Gonggrijp
                                                               
 Mobile with Application
                                     
Dishonest Display
                                                              

Device with Rotary switch
                                                                 
     Dishonest Display Board
                                                        
                                                     
                         

 ई वी एम में   छेडछाड संभव है।

¼ lkHkkj gfj d¢ Álkn ] ,e Mh usV ÃafM;k gSnjkckn] ts ,ysDl gsyMjeSu] Á¨Q¢lj dEiqVj lkaÃl] fef‘kxu fo‘ofo|ky;] j¨i x¨xafXkzTi] VsDu¨y¨th ,fDVfoLV] gkySaM  bu rhu¨a d¢ }kjk fd;s x;s ‘k¨/k dk;Z ij ;g ys[k vk/kkfjr gS- vius ‘k¨/kdk;Z     fnukad 28 vÁSy 2010 d¨ ‘k¨/kdrkZv¨a us ÁnÆ‘kr Hkh fd;k-      ‘k¨/k  dk;Z- d¢ fy;s Á;qDr gq;s à oh ,e dh p¨jh dk vkj¨i yxkdj   gfj d¢  Álkn ,oa ts ,ysDl d¨ eqEcà iqfyl }kjk 21 vxLr 2010 d¨  fxj¶rkj fd;k x;k rFkk ;g crkus d¢ fy;s ncko Mkyk x;k dh à oh ,e miyC/k djkus okys O;fDr dk uke crk;sa ] ojh; vf/koDrk jke tsBeykuh ,ao egs‘k tsBeykuh mud¢ vf/koDrk Fksa ] 10 vxLr d¨ Hkkjr d¢ eq[; fuokZpu vk;qDr us Hkh gfj d¢ Álkn d¨ ckrphr d¢ fy;s vkeaf=r fd;k Fkk ½

à oh ,e ;kuh ÃysDVª¨fud o¨fVax e‘khu ftlesa fcuk fdlh isij cSysV  d¢ ernkrk o¨V Mkyrs gSa- gkykafd rduhd esa lcls mUur eqYd vesfjdk esa ernku i= d¢ }kjk gha ernku g¨rk gS v©j mldk ,dek= dkj.k gS  ÃysDVª¨fud o¨fVax e‘khu¨a dk iqjh rjg QqyÁwQ u g¨uk- nqfu;k d¢ vU; Hkkx tSls ] dSfyQ¨Æu;k] ¶y¨fjMk] vk;jySaM uhnjySaM v©j teZuh tSlh txg¨ ij à oh ,e dk  vius ;gka mi;¨x can dj fn;k- fo‘o d¢ vU; ns‘k¨a esa Á;qDr g¨us okys à oh ,e d¨  Mk;jsDV jsd¨ÆMax ÃysDVª¨fud o¨fVax e‘khu ;kuh Mh vkj à d¢ uke ls tkuk tkrk gS] fo‘o d¢ vU; Hkkx¨a esa   Á;qDr g¨us okys à oh ,e  vR;ar gha mre fdLe d¢ Fksa-  eri=¨a d¢ tekus esa eri=¨a dh ywV ] c¨xl o¨fVax v©j fxurh esa g¨usokyh nsj d¢ dkj.k à oh ,e dk Á;¨x rdjhcu chl o“kZ igys Hkkjr esa ÁkjaHk gqvk- Hkkjr esa n¨ ljdkjh daifu;ka] Hkkjr ÃysDVª¨fud fyfeVsM v©j ÃysDVª¨fud dkji¨js‘ku vkQ ÃafM;k à oh ,e dk fuekZ.k djrh gSa - Hkkjr esa Á;qDr g¨ jgs à oh ,e e‘khu] d¨ d¨Ã Hkh xyr O;fDr ftldh igqap à oh ,e rd g¨] d¢  urht¨a esa Q¢j cny dj ldrk gS- à oh ,e esa rduhfd dfe;ka gSa- lc ÁFke bldh dk;Z  Á.kkyh dSydqysVj dh rjg gS v©j o¨V¨a dh d¨fMax dh rduhd blesa ugha gS- , Vh ,e v©j vku ykÃu cSad dk;Z  djus okys tkursa g¨axs dh ogka ÃufØi‘ku flLVe ;kuh vkadM¨a d¨ d¨fMax dh Á.kkyh  g¨rh gS- vxj vkius 1000 #i;k dk d¨Ã lkeku ;k jsyos dk fVdV vku ykÃu [kjhnk r¨ Hkqxrku d¢ fy;s vkid¢ }kjk cSad d¨ fn;k x;k vkns‘k vkid¢ dEiqVj ls cSad d¢ eq[; loZj  rd d¨M d¢ ek/;e ls igqaprk gS v©j ogka cSad dk loZj ml d¨M d¨ [k¨yrk gS rFkk le> tkrk gS fd D;k vkns‘k vkius cSad d¨ fn;k Fkk - bl iqjh ÁfØ;k d¨ ,ufØI‘ku v©j fMfØI‘ku d¢ uke ls tkuk tkrk gS-  vc ge er d¨ Q¢jcny dSls fd;k tk ldrk gS mls  foLr`r #i ls crk jgsa gSa
lÆdV c¨MZ cnyuk% ,d rjhdk gS à oh ,e d¢ lÆdV c¨MZ d¨ cny nsuk v©j mldh txg ij fje¨V ls fu;af=r djus okys lÆdV c¨MZ dk mi;¨x djuk- ysfdu bl rjhd¢ ls dh xà NsM NkM d¨ idMuk cgqr gha vklku gS
ese¨jh fpIl esa cnyko % d¨Ã Hkh ÃysDVª¨fud MhokÃl esa mld¢ vanj t¨ vkadMk Mkyk tkrk gS ] mld¢ ladyu d¢ fy;s ,d N¨Vk ls ikVZ~l dk ÃLrseky fd;k tkrk gS- ml ikVZl d¨ gha ese¨jh fpIl dgrs gSa- à oh ,e d¢ vanj yxs ese¨jh fpIl esa tek fd;s x;s vkadM¨a esa ,d N¨Vk lk ;a= ;kuh fMokÃl d¢ }kjk o¨V d¢ vkadM¨ esa Q¢jcny laHko gS- bl ;a= dk mi;¨x o¨V dh ‘kq#vkr g¨us d¢ ckn v©j erx.kuk d¢ igys dhlh Hkh le; fd;k tk ldrk gS- bls ek= ,d fDyi d¢ ek/;e ls ese¨jh fpIl ls t¨M nsuk gS v©j fdl mEehnokj dk er pqjkdj fdl mEehnokj d¨ nsuk gS ;g ;a= d¢ mij yxs j¨Vjh Lohp d¢ ek/;e ls lsV dj nsuk gS- ;g ;a= cgqr gha N¨Vk gS rFkk ‘kVZ dh tsc esa j[kk tk ldrk gS-   
à oh ,e dSIpfjax % à oh ,e e‘khu d¢ vkus ckn lcus ;g le>k Fkk dh vc cqFk dSIpfjax dk tekuk yn x;k- v©j ;g ckr lR; gS dh vc c¨xl o¨fVax] ;kuh nqljs d¢ uke ij ernku djuk] djhc&djhc lekIr g¨ pqdk gS- ysfdu vc ,d u;k [krjk mRiu g¨ x;k gS- vc tSlk dh ge mij crk pqd¢ gSa fd ese¨jh fpIl esa ladfyr er¨a d¢ vkadM¨a esa Q¢j cny fd;k tk ldrk gS - mlh rjg ese¨jh fpIl d¨ esa fd;s x;s Q¢jcny d¢ dkj.k ,d feuV esa vf/kdre ikap o¨V rd Mkyus d¢  à oh ,e d¢ fu;e d¨ r¨Mrs gq;s lSdM¨ o¨V Mkyk tk ldrk gS- ;kuh Áfr feuV ikap o¨V Mkyus dk t¨ flLVe à oh ,e esa gS og à oh ,e ij e‘khu }kjk dCtk dj ysus d¢ ckn [kRe g¨ tkrh gS rFkk y¨x¨a d¨ irk Hkh ugh py ikrk dh c¨xl o¨fVax g¨ xà D;¨afd fdlh Hkh ernkrk dk o¨V p¨jh ugh g¨rk gS -  à oh ,e esa o¨fVax d¢ ckn flQZ ;g irk pyrk gS fd d©u ls cqFk ij fdl mEehnokj d¨ fdruk er feyk- gkykafd 17 , uke ls ,d jftLVj g¨rk gS - mDr jftLVj ij ernku d¢ igys ernkrk dk uke] igpku i= dk Ádkj v©j gLrk{kj ntZ fd;k tkrk gS- ijUrq ‘kk;n gha dHkh Ãldk feyku à oh ,e esa Mkys x;s o¨V dh la[;k v©j 17 , jftLVj esa ntZ ernkrkv¨a dh la[;k ls fd;k x;k g¨- gkykafd vusd¨a cqFk¨a ij i¨fyax d¢ le; Mkys x;s er rFkk erx.kuk d¢ le; fudys er¨a d¢ varj g¨us dk fookn ges‘kk mBrk jgk gS-
e¨ckÃy d¢ }kjk o¨V dh p¨jh% à oh ,e d¢ vanj tek fofHkUu mEehnokj¨a d¢ o¨V esa ls ,d mEehnokj dk er nqljs mEehnokj d¢ [kkrs esa tek dj nsus dh ÁfØ;k vR;ar gha vklku gS- bld¢ fy;s ek= à oh ,e d¢ fMlIys ;kuh LØhu d¨ cny dj nqljk fMlIys yxkus dh t#jr gS- nqljk fMlIys t¨ yxk;k tk;sxk mld¢ vanj ,d Cyq VqFk fMokÃl yxk jgsxk- Cyq VqFk fMokÃl fcuk rkj dh jsfM;¨ rjax Hkstus dh rduhd gS- fMlIys d¢ vanj ,d cgqr gha N¨Vk lk fpIl yxk jgsxk- bl csÃeku fMlIys d¨ erx.kuk d¢ iwoZ  fdlh Hkh le; ;gke rd lky Hkj igys Hkh yxk;k tk ldrk gS- fMlIys d¢ vanj yxs gq;s Cyq VqFk rduhd ;qDr fpIl d¨ fu;af=r djus dk dke Cyq VqFk okys e¨ckÃy ls fd;k tk ldrk gS- e¨ckÃy dh txg ij nqljs Ádkj dk ;a= Hkh t¨ Cyq VqFk rduhd ls ;qDr g¨] mldk mi;¨x à oh ,e d¨ fu;af=r djus d¢ fy;s fd;k tk ldrk gS- oSls ,d fo‘ks“k Ádkj dh lqfo/kk ;qDr e¨ckÃy lcls T;knk l{ke rjhd¢ ls à oh ,e d¨ fu;af=r djus dk dk;Z dj ldrk gS- Ãl fo‘ks“k Ádkj d¢ e¨ckÃy ls à oh ,e d¨ lans‘k Hkstk tkrk gS  dh fdl   mEehnokj d¨ enn djuk gS v©j mld¢ ckn à oh ,e esa Mkys x;s fofHkUu mEehnokj¨a dk fuf‘pr Áfr‘kr er ftl mEehnokj d¨ enn djuk gS mld¢ [kkrs esa pyk tkrk gS- gkykafd ;g lcls vklku rjhdk gS o¨V p¨jh dk ysfdu blesa [krjk Hkh gS- vxj fdl à oh ,e esa fdlh ,d mEehnokj d¢ i{k esa cgqr gha de tSls 15 er iMs gSa v©j og lHkh er ,d gha ifjokj d¢ lnL;¨a }kjk Mkys x;s  gS rc oSlh fLFkfr esa er¨a dh p¨jh d¢ ckn 15 ls de er vkus ij ‘kd iSnk g¨ ldrk gS- ‘kd ls cpus d¢ fy;s er dh p¨jh djus okyk flQZ mUgha mEehnokj¨a d¢ er¨a dh p¨jh djrk gS ftud¨ lHkh cqFk¨a ij dqN u dqN er ÁkIr g¨ jgk g¨- ,d nqljk [krjk gS fd vxj xyrh ls ftl mEehnokj d¢ i{k esa er d¨ gLrkarfjr djuk g¨] mldh otk; vxj nqljs mEehnokj d¨ e¨ckÃy ij lsysDV dj fy;k r¨ oSlh fLFkfr esa ml mEehnokj d¢ [kkrs esa ckdh mEehnokj¨a dk er pyk tk;sxk rFkk xyr ;k ml mEehnokj ftld¨ er feyus dh laHkkouk ux.; gS mls dhlh ,d à oh ,e esa cgqr gha T;knk er fey tk;sxk t¨ ‘kd iSnk dj ldrk gS- fMlIys d¨ vyx ls ikoj dh t#jr ugh g¨rh gS og à oh ,e d¢ ikoj ls gha fctyh ÁkIr djrk gS-mij¨Dr Cyq VqFk rduhd ls o¨V¨ dh p¨jh dh lcls cMh [kkeh gs fd pquko d¢ urhts vR;ar gha vÁR;kf‘kr g¨axs- rFkk ftrus v©j gkjus okys n¨u¨ mEehnokj vius vki d¨ feys er¨a dk d¨Ã rkÆdd dkj.k ugha le> ik;saxs-
thxch rduhd% mij mu rduhd d¢ ckjs esa ppkZ  gqà ftld¢ mij ‘k¨/k dk;Z  fd;k tk pqdk gS- ,d uà rduhd thxch ] ftldk Á;¨x ?kj] QSDVjh] Ldqy ] dkyst¨ esa lHkh Ádkj d¢ ÃysDVª¨fud midj.k¨a d¨ ,d gha txg ls fu;af=r djus d¢ fy;s fd;k tk ldrk gS- ;g rduhd Cyq VqFk rduhd ls lLrh v©j vklku gS- Cyq VqFk rduhd esa tgka gj à oh ,e d¢ fMlIys d¨ cnyus dh t#jr gS t¨ ,d dfBu dk;Z  gS] ysfdu thxch d¢ lkFk ;g leL;k ugh gS v©j ,d thxch ;qDr ;a= d¢ }kjk lSdM¨ ;k gtkj¨ à oh ,e d¨ ,d lkFk fu;af=r fd;k tk ldrk gS- Q¨V¨ 4   mij esa n‘kkZ;s x;s rjhd¨a d¢ vykok vU; rjhd¢ Hkh gSa ftudk mi;¨x djd¢ er pqjkus okyk urht¨a d¨ ÁHkkfor dj ldrk gS- ;g irk pyus d¢ ckn fd à oh ,e d¨ dCts esa djuk dkxt d¢ eri=¨a ls T;knk vklku gS] Hkktik] dkaXkszl lfgr vf/kdka‘k ny¨a us à oh ,e dh txg ij iqu% eri=¨a d¨ ykus dk fuosnu pquko vk;¨x ls fd;k gS- uà rduhd dh lcls T;knk Á‘kalk  djus okys pUæ ckcq uk;Mq us à oh ,e d¨ gVkus dh ekax lcls igys mBkà Fkh- à oh ,e dh dfe;¨a d¨ mtkxj djus okys gfj d¢ Álkn d¢ ikl vDVwcj 2009 esa ,d egRoiw.kZ {ks=h; ny d¢ Áfrfuf/k us pquko d¨ ÁHkkfor djus d¢ fy;s muls enn ekaxh Fkh gkykafd mUg¨aus mDr ny dk uke mtkxj ugh fd;k- bl laoknnkrk à oh ,e d¢ ‘k¨/kdk;Z ls tqMs j¨Q x¨axfXkzTi ls à esy d¢ tjh;s laidZ LFkkfir djd¢ cgqr lh tkudkjh ÁkIr dh- ts ,ysDl ls Q¨u ij ckrphr djus dk Á;kl fd;k ysfdu laidZ LFkkfir ugh g¨ ldk-
26 Nov 2010

The Hindu : Today's Paper News : Missing EVM: techie arrested

EVM is vulnerable वोटिंग मशीन में छेडछाड संभव है।



































































































































video
भारत में चुनाव के लिये तकरीबन बीस वर्षो से मतदान के लिये वोटिंग मशीन का प्रयोग शुरु किया गया है। बहुत हीं सुरक्षित होने का दावा के वावजूद वोटिंग मशीन में सामान्य सुरक्षा के भी ईन्तजाम नही है। मात्र २००-४०० रुपये के बहुत ही छोटा सा एक पार्ट लगाकर ब्लु टुथ टेक्नोलोजी के माध्यम से मोबाईल फोन द्वरा ई वी एम को नियंत्रित किया जा सकता है और उसके नतीजे को प्रभावित किया जा सकता है। ईस विडिओ में दिखाया गया है की कैसे छेडछाड की जा सकती ह्सि.
20 Nov 2010

बिहार के गया जिले का ईमामगंज विधानसभा क्षेत्र में नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारुदी सुरंग

नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्र ईमामगंज की तस्वीरें

टाईम्स नाउ टी वी चैनल की गलैमरस रिपोर्टर जागोरी धर

नक्सलियों के भय से मतदान केन्द्र पर सन्नाटा
  

बारुदी सुरंग में निकाला गया गैस का सिलेंडर जिसका उपयोग ब्लास्ट करने के लिया था
  
पुलिस उपाधीक्षक अशोक कुमार सिंह जिनके सुझबुझ से बारुदी सुरंग का पता चला
                                            

                                      
 

19 Nov 2010

Retired Chief Justice Mr. K. G Balakrishnan was corrupt

मैंने यह ब्लॉग जब लिखा था , लोग विश्वास नहि करते थें। आज केरल के एक न्यायालय द्वारा के जी बालाकर्‍ष्णण के परिवार की संपति की जांच का आदेश होने के बाद यह स्पष्ट हो गया की उच्चतम न्यायालय का यह सेवानिवर्‍त जज भ्रष्टाचार में लिप्त था। अगर जांच सही तरीके से की गई तो गैस विवाद में मुकेश अंबानी के पक्ष में दिये गये निर्णय का सच सामने आ जायेगा । गैस विवाद की आग से न मनमोहन बचेंगे न सोनिया और देवडा .



I was least interested to make any remarks about KGB ( Retired CJI of India) but in debate on 2G spectrum, name of Barkha Dutt and Veer sanghavi came in lime light as in conversation between Nira Nadia and A Raja, their name appeared. Mr. Sanghavi , in order to contradict, issued a statement defending himself as well as Barkha and in that respond, he used the Mukesh- Anil Dispute in which, Nira Radia was favouring Mukesh. judgement passed in the said case was controversial to the extend of that, the CJI has to come before media to clarify his stand by saying that this was the most difficult case of his career. In that case, GOV. of India stand with Mukesh. After delivering judgement and retirement, He, KGB, got reward as being appointed head of Human right Commission. what was this? ( i will post the matter in details after 20th November due to my engagement in Bihar election as reporter)


Below is the response of Mr. Sanghavi and the line marked in bold blue color is relevent to my blog.

Friday, 19 November 2010 15:49 B4M भड़ास4मीडिया - प्रिंट .: अपने ब्लाग पर अपना पक्षा रखा : बरखा दत्त - नीरा राडिया बातचीत प्रकरण में बरखा दत्त खुद सामने नहीं आईं बल्कि उनका बचाव एनडीटीवी समूह के सीईओ ने किया. उधर, वीर सांघवी ने अपना बचाव खुद ही करना शुरू कर दिया है. उन्होंने ओपेन मैग्जीन समेत कई जगहों पर उनके व राडिया के बीच बातचीत के टेप प्रसारित होने के तुरंत बाद अपने ब्लाग पर सफाई दी. शीर्षक है- ''My response to the Radia transcripts''. अपनी सफाई में सांघवी ने कहा है कि इस बातचीत में ऐसा कहीं कुछ नहीं है जिससे साबित होता हो कि उन्होंने किसी के लिए लाबिंग की हो. और भी बहुत कुछ कहा है लिखा है लेकिन लिखते लिखते वे कुतर्क करते हुए दिखने लगते हैं. यकीन न हो तो खुद पढ़ लीजिए. उनके ब्लाग पर प्रकाशित उनके पक्ष को साभार लेकर हम यहां नीचे प्रकाशित कर रहे हैं.

My response to the Radia transcripts
-Vir Sanghvi-


Several months ago, stories began appearing in a section of the media suggesting that I – along with other journalists – had lobbied on behalf of A. Raja. As I have never met Mr Raja and have attacked his corruption in both print and TV, these assertions struck me as bizarre. The stories were based on tape-recorded conversations that Niira Radia had with innumerable individuals, including several journalists.

A magazine has now published what purports to be transcripts of those conversations though it says “We are in no position to endorse the contents of the recordings” which presumably means that it is not guaranteeing their authenticity. While nobody can remember verbatim every conversation that took place 19 months ago, these transcripts do not appear to be entirely accurate.

Moreover, there is nothing at all in the transcripts to suggest that I lobbied for Mr Raja. The conversations recorded relate to the phase when there was an impasse between the DMK and the Congress. Ms Radia called several journalists, including me, to ask us to convey a message to any Congress leaders we met in the course of our work. This message was, essentially, that the Congress was communicating with the wrong people in the DMK.

While gathering news, journalists talk to a wide variety of sources from all walks of life, especially when a fast-moving story is unfolding. Out of a desire to elicit more information from these sources, we are generally polite. I received many calls from different sources during that period. In no case did I act on those requests as anybody in the government will know. The second conversation relates to the dispute between the Ambani brothers. I had asked Ms Radia to explain the position of her client, Mukesh Ambani. And I also asked Anil Ambani’s side for its views.This was recorded in the piece. I wrote: “My friend, Tony Jesudasan, who represents Anil, took me out to lunch and made out a case for Anil. I was totally convinced till my friend, Niira Radia, who represents Mukesh, gave me the other side which frankly seemed just as convincing to my inexpert ears”. I also wrote, “Why do the Ambanis think that all of us should take sides in their battle? Or that we should care what happens to them?” That still remains my view.
18 Nov 2010

अब छोडी महाराज आ गईले नक्सलाईट

अभिव्यक्त करें अपने विचारों को

उपर एक  लिंक है वेब साईट का यह न्यूज साईट है। यहां आप अपने विचार , लेख और समस्याओं के बारे में लिख सकते हैं । साईट के मैनेजिंग डायरेकटर श्री भुपेन्द्र सिंह गर्गवंशी जी है । पुराने पत्रकार हैं । निर्भीकता इनका स्वभाव है। न्यूज पोर्टल पर सभी लेखकों , पाठकों और समाज में फ़ैली कुरीतियां तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ़ जंग लड रहे व्यक्ति और संस्थाओं का स्वागत है । एक बार न्यूज पोर्टल पर जाने का कष्ट करे । आप को वहा अपनी आवाज नजर आयेगी।
17 Nov 2010

आओ बातें करें: अरुंधती , जिलानी और काश्मीर

आओ बातें करें: अरुंधती , जिलानी और काश्मीर: "अरुंधती राय ने विवादास्पद बयान कश्मीर के बारेंमें दे डाला और तहलका डाट काम जैसी पत्रिका की नामी गिरामी लेखिका शोमा चौधरी ने उनके बयान पर एक..."

अरुंधती , जिलानी और काश्मीर


अरुंधती राय ने विवादास्पद बयान कश्मीर के बारेंमें दे डाला और तहलका डाट काम जैसी पत्रिका की 
नामी गिरामी लेखिका शोमा चौधरी ने उनके बयान पर एकलेख भीलिख डाला पर जब मैने अपनी प्रतिक्रिया 
भेजी तो तहलका ने नही छापा । मैने अपने ब्लाग के माध्यम से आप तक अपनी बात रखने को  सोचा । इस के साथ वह लिंक भी है जहां शोमा का लेख छपा है। एक और महान व्यक्तित्व हैं संदीप पांडे उन्होने तो चौथी दुनिया में अयोध्या फ़ैसले पर जो लिखा वह लेख पढकर यह नही समझ आया की पांडे जी जज बनना चाहते हैं या उस विवाद को जिंदा रखना । उनके लेख के बारे में भी मैने टिप्पणी लिखी है । आपकी प्रतिक्रिया का मुझे ईन्तजार रहेगा http://www.tehelka.com/story_main47.asp?filename=Ne061110Coverstory.asp ( शोमा के लेख का लिंक )



                  The Shape of the Beast
Shoma , is there any classification of intelligence in the form of middle , upper, high – middle  etc.?  all such are economic division of society ,   unrelated with wit and intelligence  of a person.  Such classification somewhere disallowed someone an equal platform and also bar participation in debate.  Many illiterates are having broader view and space than that of so called upper class or elite. For god sake, rise above such prejudice.  Don’t classified intelligentsia.  In recent period, a new fashion is developed. Prominent personas are poking their nose in every matter. I read one article of Mr. Sandeep Pandey, magsaysay award winner , in a hindi  weekly Chauthi Duniya, discarding finding of  Lucknow bench of Allahabada  High court in ayodhya dispute. . He questioned the jurisdiction of court and disapproved the judgment, passed in the case,   on flimsy ground of order being based   on faith. Similarly Arundhati Passed remarks about the status and merger   of Kashmir in India. First and foremost, I would like to discuss the constitutional status of j&K . Our ruler English passed a bill to free all kingdom, states and jamindar of India with freedom to decide merger either  with   India or Pakistan or to remain independent. King of Kashmir Hari singh first tried to enjoy sovereign status but when Pakistan intruded, he signed merger pact with India. No sheikh abdullah, farooque Abdullah  or any one was having right to decide fate of J&K. blunder of Nehru to allowing  interference  of UNO under a wrong provision of UNO caused problem which is continue . Huriyat merely represent Muslim community. J&K may be a Muslim dominated state like Uttrakhand is Hindu dominated but apart from muslim, Hindu, sikh  and budhist are in large number there.. Arundhati  did not take  pain to go in depth of  history. I am not detractor but certainly Arundhati is   dilettante.   Though she is not one rather whole new generation, foreign award winners are enjoying popularity, earning good buck by way of being in controversy. Whether Sandeep Pandey, in the matter of Ayodhya verdict or Arundhati, all these self esteemed elite intelligentsia   are inserting their foot   in other’s shoe.  They are suffering from superiority complex.  Writing one or two book in English makes them star overnight. Arundhati too is not an exception. Kashmir is Muslim dominated that is why no Indian Government   took step to tackle with separatist forces, like Huriyat.  If similar demand would have been made by any Hindu organization in a hindu state, would have been declared anti-national and separatist. Naxal movement is wider and logical but banned.  These two different and contrary approaches are  basic reason for unrest in Kashmir. Government must clear its stand and take strict measure to ban huriyat and book its leader.  So far controversy raised by Arundhati is concerned; she is simply a person having hunger for fame. Sometimes she raised voices for good cause and genuine one  , Narmada Dam or comments in court room regarding judicial system are praise worthy but ingredients of fame hood was there too. Unfortunately we live in a country where knowledge of English gives you an advantage. Making voices about atrocities of paramilitary forces is right and justified but that is not confined to Kashmir only rather its density is more severe in Naxal belt. They are picked up, illegally detained, tortured and killed. Their body is found at some isolated place and unfortunately blame is labeled on them too. I know Arundhati echoed Naxals Cause too but that was one sided again. There is sharp division in naxal movement on caste and region line.   I think fame hood comes with responsibility. Single word of person like Arundhati spark many controversies, she should take care of  it. It is not necessary to manifest your view in the matter, you are not well acquainted.


14 Nov 2010

बिहार विधानसभा का चुनाव

बिहार विधानसभा का चुनाव अब अपने अंतिम दौर में है . २० नवम्बर को आखिरी दौर का चुनाव है. तकरीबन १३ विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जहां सिर्फ नक्सलियों का फ़रमान चलता है. कहने के लिए अर्द्ध सैनिक बल तैनात हैं लेकिन उसका कोई ख़ास असर नहीं पड़ने वाला . नक्सल प्राभावित क्षेत्र में पुलिस थानों में दिन में भी ताला लगा रहता है . अस्थायी रूप से अर्द्ध सैनिक बलों की तैनाती से जनता के अंदर आत्मविश्वास नहीं पैदा किया जा सकता है . गया के ग्रामीण क्षेत्र में वैंकेया नायडू , पूर्व अध्यक्ष का हेलीकाpटर नक्सलियों ने  जला दिया था . बिहार के सभी राजनीतिक दलों के उम्मीदवार नक्सलियों की मदद लेने के लिए उनके साथ सौदे बाजी करते हैं. नक्सल क्षेत्र के मतदाताओ की मजबूरी है नक्सल फ़रमान को मानना . नक्सल समस्या मूलत: भ्रष्टाचार की देन है. बिहार शायद देश के सवार्धिक भ्रष्ट राज्यों में है. यहाँ मुखिया और वार्ड पार्षद स्तर पर भ्रष्टाचार अपने पाँव जमा चुका है . सभी सरकारी योजनाएं भ्रष्टाचार की भेट चढ़ चुकी हैं . अफसरशाही बेलगाम है . सरकार के स्तर पर अफसरों कों भ्रष्टाचार की छूट हासिल है . अफसरों ने भी मिली हुई छूट का अहसान चुनाव में पक्षपात पूर्ण तरीके से मतदान केन्द्रों पर अर्द्ध सैनिक बलों की नियुक्ति कर के अदा किया . चुनाव परिणाम आ चुका है। राजग गठ्बंधन को मिली सफ़लता अप्रत्याशित है। ई वी एम मशीनों की विश्वसनियता पर सवाल खडा हो गया है। हालांकि पुरे चुनाव के दौरान ईलेक्ट्रोनिक मीडिया का रवैया पक्षपात पुर्ण रहा। मैं ई वी एम में गडबडी की जा सकती है या नही, इस पर काम कर रहा हुं। नतीजे चौकानेवाले हैं।  .
13 Nov 2010

सुदर्शन और सोनिया , सी आई ए और रुस

सोनिया गांधी

के सुदर्शन


बिल क्लिंगटन के साथ सोनिया गांधी
मेनका गांधी
सुदर्शन ने यह कहकर की सोनिया सी आई ए की एजेंट है और अवैध सतान हैं एक अच्छा - खासा विवाद खडा कर दिया । कांग्रेस पार्टी सारे देश में तोड - फ़ोड मचाने में जुट गई । के सुदर्शन को भी साक्ष्यो के साथ कोई बात कहनी चाहिये थी । वैसे एक बहुत पुराना विवाद है रुस द्वारा अपने हितो की रक्षा के लिये राजीव गांधी परिवार को पैसे देने की ( http://en.wikipedia.org/wiki/Sonia_Gandhi ) यह लिंक है जहां सारी बातें दर्ज है। क्वात्रोची इटली का था और राजीव गांधी का परिवारिक मित्र था , यह एक तथ्य है । बोफ़ोर्स खरीद में पैसों का लेन - देन हुआ , इससे ईंकार नही किया जा सकता । वैसे भी खरीद के सभी सौदों में लेन देन होता है और सभी दल ईसे जानते हैं। बोफ़ोर्स घोटाले के कारण राजीव गांधी को सता से हाथ धोना पडा । सोनिया गांधी के माध्यम से क्वात्रोची का प्रवेश प्रधान मंत्री निवास में हुआ था । सोनिया गांधी का फ़र्ज था कि पति के सम्मान की रक्षा के लिये क्वात्रोची को सामने आने के लिए कहती । आजतक बोफ़ोर्स घोटाला रहस्य बना हुआ है । ऐसी परिस्थिति में यह प्रश्न स्वाभाविक है की अगर बोफ़ोर्स खरीद में घोटाला हुआ है तो फ़िर सी आई ए से पैसा लेने का या एजेंट होने का आरोप सुदर्शन लगा रहे है तो कोई आश्चर्य नही । जब एक बार किसी के उपर चोर होने का आरोप लग जाता है तो जबतक वह व्यक्ति आरोप मुक्त नही हो जाता , बार-बार आरोप उसके उपर लगता है। नेट पर मुख्यत: युवा हीं आते है , उन्हें बहुत सारी बातों की जानकारी नही है। सिक्किम के भारत में विलय के लिये 1975 में भारत ने क्या - क्या किया यह राजनितिक विश्लेषक जानते हैं । चोग्याल सिक्किम के राजा थें और उनकी अमेरिकन पत्नी होप कुक भारत मे विलय के खिलाफ़ थें। विलय के लिये वह सारे हथकंठे अपनाये गये जिन्हें लिखना मुम्किन नही है। चोग्याल शराब के शोकिन थे और रसिया मिजाज के थें। उनकी इस कमजोरी का फ़ायदा उठाकर भारत में विलय के दस्तावेज पर दस्तखत कराया गया। सोवियत संघ का किस्सा तो सबको मालुम होगा । पेत्रोइस्त्का जब वहां लागु हुआ , मैने कहा था अब सोवियत संघ टुकडो में बट जायेगा , वही हुआ , गोर्बाचोव की भुमिका संदिग्ध थी , सोवियत संघ के टुकडे - टुकडे हो कर बिखरने का दाग आज भी गोर्बाचोव के माथे पे है । आज वह आराम से अमेरिका में प्रोफ़ेसर की नौकरी कर रहे हैं। सोवियत संघ के बिखरने के पहले , अमेरिका और रुस दोनो दुनिया के सभी मुल्कों के राजनितिक दलों के नेताओं को गुप्त रुप से पैसे देते थें , ्वह शीत - युद्ध का दौर था। आज रुस कि जगह चीन ने ले ली है , पैसा तो वह नही बाट सकता लेकिन एशिया के तकरीबन हर मुल्क में सता विरोधी सशस्त्र विद्रोह को मदद पहुचाने का काम करता है। अमेरिका की राजनिति में सी आई ए की अहम भुमिका है और दुनिया के सभी देशों में अपने हित की रक्षा के लिये राजनितिक दलों और नेताओं को सी आई ए के माध्यम से पैसे मिलते हैं, यह दिगर बात है की कोई भी दल या नेता ईसे नही स्वीकार करेगा ठिक उसी तरह जैसे कोई भी नेता यह नही स्वीकार करता कि चुनाव में उसने निर्धारित सीमा से अधिक खर्च किया । यह भारत है , जहां कि ३० प्रतिशत आबादी भ्रष्ट हो चुकी है और बाकी ५० प्रतिशत भ्रष्ट होने के कगार पर है। कांग्रेसियों को सुदर्शन के बयान पर बौखलाने के बजाय कामन वेल्थ , आदर्श सोसायटी , २ जी घोटाले के लिये अपने दल से जवाब मागना चाहिये था , बयान से बडा मुद्दा है भ्रष्टाचार ।वैसे कांग्रेस नैतिकता का पाठ न पढाये तो ज्यादा अच्छा है। मेनका गांधी को रात दस बजे सामान सहीत घर से बाहर निकाला गया था।


11 Nov 2010

election photo 9 october

बिहार चुनाव में उत्साहित मतदाता

10 Nov 2010

पतिव्रता गुलाम महिलाओं का वोट





पतिव्रता गुलाम महिलाओं का वोट

बिहार में अखबार के समाचार संकलन के दौरान यह जानने का प्रयास किया कि क्या निष्पक्ष चुनाव संभव है। वैसे तो ढेर सारी बातें उभर कर सामने आई जिसका जिक्र बाद में करुंगा । लेकिन सबसे ज्यादा उस बात ने मेरा ध्यान आकर्षित किया जिससे परिचित तो सभी हैं लेकिन कभी गंभीरता से उस पर विचार नही किया गया । शिक्षा के विकास के साथ-साथ आज गांवों में भी महिलाओं को मेले मे जाने , सर्कस देखने , पसंद के कपडे खरीदने की आजादी हासिल हो चुकी है लेकिन अपने मन से चुनाव में खडे उम्मीदवार को चुनने की आजादी नही है । एसा नही है कि किसी ने उनको रोका है , वे खुद नही चाहतीं, कही न कही उनके मन के अंदर तक बैठे पतिव्रता नाम का जीव इसकी इजाजत नही देता और वैसी स्थिति में प्रशासन या चुनाव आयोग भी क्या कर सकता है। पति की ईच्छा के विरुद्ध जाकर मत डालना उन्हें अपने कर्म से विमुख होना लगता है। एक ग्रामीण महिला से पुछा " केकरा कहे पर डाल रहलु हे वोट , उसने पल्लु से मुह ढकते हुये , शर्मीली मुस्कान के साथ कहा जेकरा मलिकवा कहलथुन हे ओकरे न देबे बाबु " मैने कुछ नही कहा लेकिन उसकी बात ने दो चीजें साफ़ कर दी, एक तो महिलाओं की रुची राजनिति में करीब - करीब न के समान है और दुसरा कि वोट देने के मामले में आज भी पतिव्रत ही ज्यादा अहमियत रखता है ।
7 Nov 2010

आओ बातें करें: हिन्दुस्तान की पुलिस और आई पी एस आतंकवादियों से भी...

आओ बातें करें: हिन्दुस्तान की पुलिस और आई पी एस आतंकवादियों से भी...: " ईस देश का कोई भी सभ्य आदमी थाने नही जाना चाहता कारण है पुलिस का व्यवहार । पुलिस अधिक्षक यानी एक आई पी एस यह समझता है कि देश उसके बाप का है..."

हिन्दुस्तान की पुलिस और आई पी एस आतंकवादियों से भी बुरे हैं ।



 ईस देश का कोई भी सभ्य आदमी थाने नही जाना चाहता कारण है पुलिस का व्यवहार । पुलिस अधिक्षक यानी एक आई पी एस यह समझता है कि देश उसके बाप का है और वह शासन करने के लिए पैदा हुआ है । यह ब्लाग मैं उन अधिकारियों तथा पुलिस जवानो  के लिए लिख रहा हुं जो आतंकवादियों के हाथों मारे जाते है , तकलीफ़ होती है देखकर -सुनकर लेकिन उससे भी ज्यादा कष्ट होता है जब नक्सल के नाम पर निर्दोष   को प्रताडना दी जाती है। अगर पकड में आने वाला सचमुच में नक्सलवादी है तब तो उसे  ईस तरह की यातना दी जाति है जिसे देख कर मानवता भी शर्मसार हो जाये। मैने बहुत सारे पुलिस वालों और पत्रकारों के विचार सुना , सबने नक्सलियों के साथ होने वाले जुल्म को , उनके द्वारा किये गये नरसंहार के परिप्रेक्ष्य में यथोचित ठहराने का प्रयास किया यानी tit for tat. पर क्या है उचित है ? एक चोर , डकैत , अपहरणकर्ता से बडा अपराधी वह नेता और अफ़सर हैं जो भ्रष्ट्राचार की कमाई से देश को लूट रहे हैं। ईनकी सजा क्या होनी चाहिये यह मैं आपके उपर छोडता हुं। मुझे ईन्तजार रहेगा आपके जवाब का।

बहुत महंगा है ईलाज

  मर गई राजू की बीबी; बहुत महंगा है ईलाज



आओ बातें करें: बहुत महंगा है ईलाज: "नियति के इस काल चक्र से कोई नही बच पाता है पर क्या शाम होने के पहले सुरज कहीं ढल जाता है। सुरज ढल गया, मैं देखता रहा , रोता रहा पर कुछ न ..."

बहुत महंगा है ईलाज

नियति के इस काल चक्र से कोई नही बच पाता है
 पर क्या शाम होने के पहले सुरज कहीं ढल जाता है।


सुरज ढल गया, मैं देखता रहा , रोता रहा पर कुछ न कर पाया। बहुत महंगा है इलाज , बस अब बस । हर कोई संजय दत्त नही होता, न हीं जिन्दगी सिनेमा है। घर पे हीं एक फ़िल्म देखा था  , संजय दत्त हीरो था। अस्पताल को बंधंक बना लेता है,बेटी के ईलाज के लिये पर राजू संजय दत्त तो नही हो सकता । मर गई   राजू की   बीबी ।
4 Nov 2010

विकल्पहीनता के विकल्प हैं नीतीश





fodYighurk d¢ fodYi gSa uhrh‘k
 vijkf/k;¨a d¢ gkFk fxjoh g¨xk fcgkj

/ku i‘kqv¨a d¢ ikl vuki&‘kuki rjhd¢ ls dekà gqà n©yr v©j fo/kk;d cuus dh mudh yyd  us lHkh jktfufrd ny¨a d¢ fl)kar¨a dh /kfTt;ka mMk dj j[k दी  gS ।  lHkh ny¨a us [kqys fny ls nycnyq] ?k¨Vkysckt] Hkz“Vkpkjh v©j vijkf/k;¨a d¨ fVdV ckaVs   lcls igys ‘kq#vkr djrk gqa fodkl iq#“k lq‘kklu ckcq ls] x;k ftys d¢ Ãekexat esa ekjs x;s jktn usrk jkts‘k dqekj dh   gR;k dgus d¨ r¨ uDlfy;¨a us dh Fkh ij   पर्दे  d¢ ihNs dk lp dqN v©j gS- ipkl gtkj  vijkf/k;¨a d¨ ltk fnykus dk nkok djus okys uhrh‘k vius ,d cMs नेता  ij yx jgs ºR;k d¢ vkj¨i ls NqVdkjk fnykus esa vlQy jgsa  v©j  gR;k dh tkap lh ch vkà ls djokus  dh ekax dj jgs Lo0 jkts‘k dqekj d¢ csVs d¨ vius njokts  ls cMs csvkc# g¨dj fudky ckgj fd;k- gR;k d¢ d¢l dh QkÃy [k¨yus okys Ãekunkj ,l ih ijs‘k lDlsuk  v©j Mh vkà th vjfoan ikaMs d¨ rcknys d¢ naM ls uoktk x;k] okg js lq‘kklu okg-  nqljk mnkgj.k gS jktn Hkh fiNs ugh gS vijkf/k;¨a d¨ fVdV nsus esa] x;k ls ,d bUVªh ekfQ;k d¨ fVdV feyk ] dHkh Jheku vkrad dk i;kZ; jg pqd¢ gSa- y¨x¨ us ns[kk gS v©j >syk gS- g¨ ldrk gS ÞekfQ;k ljÞ thr Hkh tk;sa ysfdu jktn dh cnyko okyh Nfo d¨ fuf‘pr gha {kfr igqaph gS- dkaXkszl us r¨ cqyk&cqyk dj cqjs y¨x¨a v©j vijkf/k;¨a d¨ fVdV fn;k gS- x;k esa Hkh ,d mEehnokj gS dkaXkszl dk ftls jktn us Hkh fVdV ls Ãadkj dj fn;k Fkk vkt os iatk d¨ ysdj ?kqe jgs gSa- dkaXkszlh Hkh mudk foj¨/k dj jgs gSa- y¨tik us Hkh fVdV cVokjs esa vius caxys d¨ vkckn dj jgs dk;ZdrkZv¨a d¢ jktuhfrd Hkfo“; d¨  cjckn dj fn;k - ckgj ls vk;kfrr mEehnokj d¨ fVdV fn;k - i‘kqifr ukFk ikjl us  fcgkj fji¨VZj  ckrphr d¢ Øe esa crk;k Fkk fd y¨tik flQZ  vius leÆir dk;ZdrkZv¨a  d¨ gha fVdV nsxh- fcgkj fji¨VZj~  d¢ ikl muls dh xà ckrphr dh fjdkÆMax Hkh e©tqn gS-  x;k ftys d¢ c¨/kx;k  fo/kkulHkk {ks= esa fLFkr   vkn‘kZ  xkao   ‘kCn¨ esa ekjs x;s lkekftd dk;ZdrkZ egs‘k ,oa lfjrk dh vkRek Hkktik tSlh ikVÊ dk [ksy ns[k jgh gS] vkt rd egs‘k& lfjrk d¢ gR;k dh xqRFkh ugh lqy>h- Hkktik d¢ ,d mEehnokj dk nkeu nkxnkj gS ;g ckr  ‘kCn¨oklh [kqysvke dgrs gSa - [kafMr tukns‘k d¢ vklkj us ;g r¨ lkfcr dj fn;k dh uhrh‘k th d¢ fodkl dk nkok cgqr etcwr ugh gS] ‘kklu esa QSys Hkz“Vkpkj us nkos d¨ [k¨[kyk cuk fn;k gS- d¢Uæ dh jkf‘k dk ,d vPNk [kklk fgLlk eaf=;¨a dh tsc esa x;k gS- - ykyw  Hkh lo.k¨Z fd ukjktxh d¨ Hkqukus esa pqd x;sa - fVdV cVokjs esa fdlh Hkh d¨.k ls ;g ugh fn[kk dh lo.k¨Z d¨ rjthg nh xà gS- y¨dlHkk esa gkj d¢ ckn  j?kqoa‘k Álkn flag d¢ gkFk esa ikVÊ dh deku l©i nsrs r¨ vkt vklkj cnyk gqvk utj vkrk .  uhrh‘k fodYighurk d¢ fodYi gSa  uhrh‘k d¢ ikap o“k¨± d¢ ‘kkludky esa fd;s x, dke v©j f‘k{kd¨ dh Bsd¢ ij cgkyh ] uhrh‘k d¢ vanj Nqik vgadkj  v©j  iapk;r Lrj rd viuh iSB tek pqdk Hkz“Vkpkj vkusokys fnu¨ esa fcgkj d¨ ihNs ys tkus dk dke djsxk- ysfdu Átkra= esa vki d¢ }kjk fy;s x;s fu.kZ; dk Qy vkid¨ gha Hkqxruk iMrk gS- fcgkj dh nqnZ‘kk d¢ n¨“kh dgha u dgha ge v©j vki tSls   fcgkjoklh  Hkh gS-
2 Nov 2010

भ्रष्टाचार का पर्याय बन गई है कांग्रेस





मन मोहन सिंह जी अब तो ईस्तीफ़ा दे दे
 टेलीकाम , कामन वेल्थ, आदर्श सोसाईटी हर जगह एक ही चीज भ्रष्टाचार । सभी जानते हैं माननीय टेळिकाम मंत्री राजा ने कितना पैसा कमाया । आप इसे स्वीकार करे या नही लेकिन जिस तरह से स्पेक्ट्रम की निलामी न कर के उसे एक तरह से मुफ़्त में बेच दिया गया उससे कहीं न कहीं कुछ गलत डील हुई है यह तो साफ़ झलकता है। सरकार चलाने की मजबूरी ने आपके आंखों पर धर्‍तरास्ट की तरह पटी बांध दी है। कम से कम आप सी बी आई से जांच तो करवा हीं सकते थें। राजा का ईस्तीफ़ा ले कर उन्हें जांच का सामना करने को कहना चाहिया था। आज आप सता में हैं , बचा लेंगें , लेकिन कल कोई और दल सता में आयेगा तो यह मुद्दा फ़िर उठेगा। आप यह न समझे की जनता पुरानी बातें भुल जाती है । नई तकनीक ने भ्रष्टाचार से लडाई को सुगम बना दिया है। अब अखबारों को सहेज कर रखने की जरुरत नही रह गई। किसी भी वेब साईट पर जाए पुरानी घट्नाओं की पुरी सुची उपलब्ध है। फ़िर हमारे जैसे ब्लागरों की एक सेना तैनात है , हर पल लोगों को अहसास कराने के लिए कि क्या गलत हो रहा है। आप ईमानदार माने जाते है । व्यक्तिगत रुप से आप पर कोई आरोप भी नही लगा है। लेकिन जब आप भ्रष्टाचारियों का बचाव करेंगे तब कहीं न कहीं आप के उपर से भी लोगो का विश्वास उठ जाएगा । एक बार खुद से पुछे , अगर महसुस हो की २ जी में गडबडी है तो राजा को कहें पद त्याग दे। बहुत होगा सरकार गिर जायेगी लेकिन आपकी आत्मा गिरने से बच जायेगी। सरकारें आयेंगी जायेंगी पर मरी हुई आत्मा शायद जिंदा न हो।
 
© Copyright 2010-2011 आओ बातें करें All Rights Reserved.
Template Design by Sakshatkar.com | Published by Biharmedia.com | Powered by Sakshatkartv.com.